राज्य कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 3 प्रतिशत की वृद्धि

जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे की पहल पर राज्य सरकार ने कर्मचारियों के महंगाई भत्ते तथा पेंशनरों की महंगाई राहत दर में 3 प्रतिशत की वृद्धि की है। महंगाई भत्ते एवं महंगाई राहत दर में यह वृद्धि 1 जुलाई, 2017 से लागू होगी। इस वृद्धि से लगभग 8 लाख कर्मचारी एवं 3.5 लाख पेंशनर्स लाभान्वित होंगे। वर्तमान में राज्य कर्मचारियों को वेतन का 136 प्रतिशत महंगाई भत्ता देय है। इस वृद्धि के बाद अब यह बढ़कर 139 प्रतिशत हो गया है। बढ़े हुए महंगाई भत्ते का लाभ राज्य कर्मचारियों के अतिरिक्त कार्य प्रभारित कर्मचारियों, पंचायत समिति, जिला परिषद के कर्मचारियों तथा (शेष पृष्ठ ८ पर) राज्य के पेंशनरों को भी देय होगा। जुलाई से सितम्बर माह के बढ़े हुए महंगाई भत्ते की राशि संबंधित कर्मचारियों के सामान्य प्रावधायी निधि खाते में जमा की जायेगी। 1 अक्टूबर 2017 से महंगाई भत्ते का नकद भुगतान किया जाएगा। 1 जनवरी, 2004 एवं उसके बाद नियुक्त राज्य कर्मचारियों एवं पेंशनरों को बढ़े हुए महंगाई भत्ते/महंगाई राहत का भुगतान नकद देय होगा। वृद्धि से राज्य सरकार पर चालू वित्तीय वर्ष में लगभग 320 करोड़ रुपये का अतिरिक्त वित्तीय भार पड़ेगा। राज्य कर्मियों के लिए तदर्थ बोनस की घोषणा जयपुर। राज्य सरकार ने प्रदेश के करीब 6 लाख कर्मचारियों के लिए दीपावली के अवसर पर तदर्थ बोनस की घोषणा की है। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने मंगलवार को इसके लिए मंजूरी प्रदान कर दी। बोनस का यह लाभ राज्य सेवा के अधिकारियों को छोड़कर उन राज्य कर्मचारियों को मिलेगा, जो 4 हजार 800 रुपए ग्रेड-पे और उससे कम में वेतन ले रहे हैं। इस साल 2016-17 में बोनस की गणना 7 हजार रुपए तथा 31 दिन के माह के आधार पर की जाएगी। इस प्रकार ?से प्रत्येक कर्मचारी को अधिकतम 6 हजार 774 रुपए तदर्थ बोनस मिलेगा। इससे राज्य सरकार पर (शेष पृष्ठ ८ पर) 406 करोड़ रुपए का अतिरिक्त वित्तीय भार पड़ेगा। यह बोनस पंचायत समिति, जिला परिषद तथा कार्य प्रभारित कर्मचारियों को भी देय होगा। यादव परिवार में एका के संकेत लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव की उनके चाचा एवं पार्टी के कद्दावर नेता शिवपाल ङ्क्षसह यादव से करीब दस महीने बाद हुई बातचीत से परिवार में एका के संकेत मिल रहे हैं। सपा संस्थापक मुलायम ङ्क्षसह यादव परिवार में 2016 की जून से घमासान मचा हुआ है। मुलायम ङ्क्षसह यादव और शिवपाल यादव से अखिलेश यादव की टेलीफोन पर भी बात नहीं हो रही थी। इसी बीच, अखिलेश यादव ने कल शिवपाल ङ्क्षसह यादव से टेलीफोन पर करीब 45 मिनट बात की। सूत्रों के अनुसार आगरा सम्मेलन से पहले दोनों की मुलाकात भी हो सकती है। इससे पहले गत 28 सितम्बर को अखिलेश यादव ने पिता और पार्टी संस्थापक मुलायम ङ्क्षसह यादव से उनके घर पर मुलाकात की थी। करीब डेढ़ घंटे चली मुलाकात का नतीजा अखिलेश और शिवपाल की बातचीत मानी जा रही है।