पत्थरबाजों की महिला 'ढालÓ पर सेना का प्लान

देहरादून। कश्मीर में पत्थरबाजों द्वारा महिलाओं को ढाल के तौर पर इस्तेमाल करने की घटनाओं से निपटने के लिए सेना एक नए प्लान पर काम कर रही है। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शनिवार को इसका खुलासा किया। उन्होंने कहा कि जल्द ही सेना में महिला जवानों की भी भर्ती होगी। सेना प्रमुख ने कहा कि सेना में महिला अधिकारी के तौर पर काम कर रही हैं, लेकिन हाल में कश्मीर में सेना को हुई मुश्किलों को देखते हुए अब महिलाओं को जवान के तौर पर भी शामिल करने की योजना है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में महिलाओं को उपद्रवी ढाल बना लेते हैं, ऐसे में सेना को महिला जवानों की जरूरत है। सेना प्रमुख ने कहा, कई बार हम जब ऑपरेशन करने जाते हैं, तो आवाम का सामना करना पड़ता है। कई बार महिलाएं हमारे सामने आ जाती हैं। ऐसे में पुरूष जवान उनके खिलाफ कार्रवाई करने में झिझकते हैं। हमें जवान वाले रैंक में भी महिलाओं की जरूरत है। हमारे ऑपरेशन के दौरान महिलाओं को उपद्रवी ढाल बना लेते हैं। ऐसे में हमें लोकल पुलिस प्रशासन से महिला जवानों की मदद मांगनी पड़ती है। शनिवार को देहरादून आईएमए में पासिंग आउट परेड में गए जनरल रावत ने कहा, पहले हम महिलाओं को मिलिटरी पुलिस जवान के तौर पर भर्ती करेंगे। यहां सफलता मिलने के बाद हम आगे इस पर विचार करेंगे। अगर हमारे पास (शेष पृष्ठ ८ पर) आधुनिक तकनीक हो, सही तरह से इस्तेमाल किया जाए तो आवाम को इतनी तकलीफ नहीं होगी, हम सक्षम होंगे। जनरल रावत ने साथ ही एक बार फिर दोहराया कि सोशल मीडिया पर भ्रामक सूचनाओं के जरिए कश्मीर के युवाओं को भड़काया जा रहा है। उन्होंने कहा, भारतीय सेना को हर वक्त प्रशिक्षित रहना जरूरी है। हमें अपनी ट्रेनिंग कायम रखने की जरूरत है। उन्होंने कहा, हमारी कोशिश रहेगी कि कश्मीर में जो युवक राह से भटक गए हैं वो हथियार डालकर सेना के साथ मिलकर काम करें। फौज को अमन और शांति बहाल करने के लिए बुलाया जाता है। हम वहां मार-धाड़ करने नहीं गए हैं। हम अमन के मकसद के लिए कश्मीर में हैं।सेना को मिले 423 जांबाज अफसर देहरादून। भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में ट्रेनिंग लेने वाले 67 विदेशियों सहित 490 जांबाज कैडेट शनिवार को पास आउट हो गए। पासिंग आउट परेड में 'अंतिम पगÓ पार करते ही 423 जांबाज अफसर भारतीय सेना का मुख्य अंग बन गए। इस दौरान ट्रेनिंग में बेहतर प्रदर्शन करने वाले कैडेटों को सम्मानित भी किया गया। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत बतौर रिव्यूइंग अफसर परेड की सलामी ली। इस दौरान उन्होंने कहा कि सैन्य पुलिस में अब महिलाओं की भर्ती शुरू की जाएगी। जनरल रावत ने कहा कि हमें सैन्य टुकड़ी में महिलाओं की जरूरत है, क्योंकि हम लोग कई बार जब ऑपरेशन में जाते हैं, तो वहां कई बार महिलाएं हमारे आगे आ जाती हैं। पासआउट होने वाले कैडेटों सबसे ज्यादा यूपी के, दूसरे नंबर पर हरियाणा और तीसरे नंबर पर उत्तराखंड के कैडेट हैं। आईएमए परेड को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं और आईएमए इलाके में रूट डायवर्ट किया गया है। पुलिस और सेना के जवान चप्पे-चप्पे पर तैनात हैं।